देवादि देव महादेव के अश्रु से एक मुखी रुद्राक्ष आपके सारे दुख दूर

AyuMart

भगवान भोलेनाथ की आंखों से निकले हुए जल बिंदु से रुद्राक्ष उत्पन्न हुआ है इसकी सतह प्रायः बहुत अधिक कठोर होती है विश्व के लोगों के लिए जनकल्याण के लिए महादेव के द्वारा रुद्राक्ष हमें एक वरदान के स्वरूप प्राप्त हुआ है।

AyurMart

भगवान शिव के अंश एक मुखी रुद्राक्ष को सनातन संस्कृति में बहुत ही पवित्र माना जाता है ऐसे लोग जिनका स्वास्थ्य बिल्कुल भी ठीक नहीं रहता है उनके द्वारा यदि एक मुखी रुद्राक्ष को सोने या चांदी की माला में पिरो कर धारण किया जाए तो उन्हें अप्रतिम रूप से स्वास्थ्य लाभ की प्राप्ति होती है।

AyurMart

एक मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से रक्त से संबंधित विकार हो या सिर से संबंधित विकार या किसी प्रकार की मानसिक बीमारी हो या हृदय से संबंधित कोई बीमारी इन सभी में एक मुखी रुद्राक्ष बहुत ही चमत्कारिक रूप से लाभ प्रदान करता है।

AyurMart

एक मुखी रुद्राक्ष को इसलिए धारण किया जाता है ताकि उनके शरीर, मन मस्तिष्क के सूक्ष्म से सूक्ष्म कोशिकाओं पर भी इसका व्यापक प्रभाव पर पड़े जिससे पूरी तरह से नकारात्मकता समाप्त हो जाए

AyurMart

ऐसे लोग जिन्हें बहुत अधिक क्रोध आता है एवं क्रोध में उनका संचार तंत्र पूरी तरह से दूषित हो जाता है तथा खुद पर भी नियंत्रण नहीं रख पाते हैं और लोगों के लिए क्रोध में आकर अपशब्द का प्रयोग करने लगते हैं बात -बात पर किसी प्रकार का गलत भाषा का प्रयोग करते हैं l

AyurMart

एक मुखी प्रतिष्ठित रुद्राक्ष को स्थान दिया जाता है जातक के लिए सर्वोत्तम सिद्ध होता है तथा भोलेनाथ की कृपा भी उसके ऊपर बनी रहती है।

AyurMart

एक मुखी रुद्राक्ष धारण किया जाता है तो उनके रक्तचाप में बहुत अच्छे परिणाम देखने को मिलते हैं धीरे-धीरे ही सही किंतु इसके प्रभाव के कारण रक्तचाप पूरी तरह से नियंत्रण में रहने लगता है।

AyurMart

किसी विशिष्ट कार्य की सिद्धि के लिए तथा समाज में उचित मान प्रतिष्ठा प्राप्त करने के लिए या व्यावसायिक सफलता के लिए भी लोगों के द्वारा इस रुद्राक्ष को धारण किया जाता है।

AyurMart